Tuesday, September 16, 2008

हो मानवता का राज...!

कभी न हो आतंक कहीं,
हो मानवता का राज !

प्रातः से रवि टेर रहा है
ललित प्रभा का बीज उगाओ
धरती के कोने-कोने में
मानवता का अलख जगाओ
न्याय,दया,करुणा के घर में,
सफल बनें सब काज !

आमंत्रित कर हर कण को अब
महाशक्ति के प्राण जगाओ
फूलों से कोमलता लेकर
नव जीवन के गीत सुनाओ
कभी आस्था के आँगन में,
गिरे न कोई गाज़ !

व्यर्थ विवादों में न उलझें
सदा बड़ा हो देश
जाति,धर्म,भाषा के ऊपर
संस्कृतिमय परिवेश
इसे संभालें,गले लगा लें,
और करें हम नाज़ !
==================

6 comments:

seema gupta said...

सदा बड़ा हो देश
जाति,धर्म,भाषा के ऊपर
संस्कृतिमय परिवेश
इसे संभालें,गले लगा लें और करें हम नाज़ !
"great thoughts, wonderful"

Regard

Satyendra Prasad Srivastava said...

काश ऐसा हो पाता। बहुत अच्छी कविता

Anil Pusadkar said...

आमीन

संगीता पुरी said...

कभी न हो आतंक कहीं,
हो मानवता का राज !
काश ऐसा वास्तविक जीवन में हो पाता !
इंतजार है !

अभिषेक ओझा said...

सुंदर कल्पना... काश सच भी हो जाय..

Dr. Chandra Kumar Jain said...

धन्यवाद आप सब का
=================
डॉ.चन्द्रकुमार जैन