Friday, October 31, 2008

एक राही हो मगर चलता रहे !

दीप अच्छा है
अगर जलता रहे

मीत अच्छा है
अगर मिलता रहे

रास्ता तब तक
दुखी होगा नहीं

एक राही हो
मगर चलता रहे !
=============

7 comments:

अभिषेक ओझा said...

वाह क्या बात है !

--
ब्लोग्गर अच्छा है
अगर लिखता रहे !

आजकल बड़े कम पोस्ट लिखते हैं आप, आपके मोतियों की कमी खलती है. लगता है कहीं व्यस्त थे.

Hari Joshi said...

सत्‍यवचन।

manvinder bhimber said...

दीप अच्छा है
अगर जलता रहे

मीत अच्छा है
अगर मिलता रहे
वाह क्या बात है !

मीत said...

सही है. आप कई दिनों पे आए या मैं गा़फ़िल रहा ?

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा said...

दीप अच्छा है
अगर जलता रहे

मीत अच्छा है
अगर मिलता रहे
सही है.....

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर...
टिपण्णी अच्छी है
अगर मिलती रहै..
धन्यवाद

समीर यादव said...

डॉ साहब बेहतर सोच के साथ ...प्रस्तुत होते हैं हर बार...बधाई .