Thursday, August 14, 2008

आज़ादी ; सिर्फ़ शब्द नहीं...!

शब्दों के सार-शून्य व्यामोह से
मुक्त होकर ही
खुल सकता है अर्थ आज़ादी का !
आज़ादी से इंसान का रिश्ता
वैसा ही है,जैसा रूप का श्रृंगार से
नदी का पाट से, सरोवर का घाट से
फूल का सुवास से, प्रेम का विश्वास से
आजादी शब्द नहीं,बोध है
ज़िंदगी के माने की तलाश है, शोध है
आज़ाद होने पर कोई नहीं दिखता गुलाम
कोई डर नहीं होता
जहाँ आज़ादी है वहाँ कोई दिल नहीं रोता
===========================

7 comments:

अशोक पाण्डेय said...

आजादी शब्द नहीं,बोध है
ज़िंदगी के माने की तलाश है, शोध है
आज़ाद होने पर कोई नहीं दिखता गुलाम
कोई डर नहीं होता
जहाँ आज़ादी है वहाँ कोई दिल नहीं रोता

सुंदर भाव। सहमत।

Udan Tashtari said...

सुंदर अभिव्यक्ति है !बधाई !!

Anwar Qureshi said...

आप को आज़ादी की शुभकामनाएं .....

मीनाक्षी said...

बहुत सुन्दर भाव... आज़ादी के दिवस पर शुभकामनाएँ

Lavanyam - Antarman said...

" आजादी शब्द नहीं,बोध है"
सत्य वचन !
आपको भी स्वतँत्रता दिवस की बधाई वँदे मातरम्`
अच्छे विचार रखने के लिये आभार !
- लावण्या

रंजना [रंजू भाटिया] said...

आजादी शब्द नहीं,बोध है
ज़िंदगी के माने की तलाश है, शोध है

बहुत अच्छा और सही है ..आजादी पर्व की बधाई

Dr. Chandra Kumar Jain said...

आभार आप सब के
सम्मानित आगमन और स्नेह का.
==========================
शुभकामनाएँ स्वतंत्रता दिवस की.
डा.चन्द्रकुमार जैन