Friday, June 12, 2009

किसे मालूम था पहले...!

समुन्दर इतना उबलेगा
किसे मालूम था पहले
किसी का दम यूँ निकलेगा
किसे मालूम था पहले
कभी पत्थर पिघलता था
किसी की आह से घायल
मगर इंसां न पिघलेगा
किसे मालूम था पहले
=======================
श्री आर.पी.'घायल' की रचना साभार.

5 comments:

ओम आर्य said...

सही बात कर दी आपने......किसे मालुम था पहले इंसान पिघलते नही है......खुबसूरत रचना

Nirmla Kapila said...

चंद शब्दों मे सुन्दर अभिव्यक्ति आभार्

श्याम कोरी 'उदय' said...

कभी पत्थर पिघलता था
किसी की आह से घायल
मगर इंसां न पिघलेगा
किसे मालूम था पहले
... प्रभावशाली अभिव्यक्ति !!!!!

अल्पना वर्मा said...

किसी की आह से घायल
मगर इंसां न पिघलेगा
किसे मालूम था पहले
-khoob likha hai!
achchee rachna

Hindi Choti said...


Hindi sexy Kahaniya - हिन्दी सेक्सी कहानीयां

Chudai Kahaniya - चुदाई कहानियां

Hindi hot kahaniya - हिन्दी गरम कहानियां

Mast Kahaniya - मस्त कहानियाँ

Hindi Sex story - हिन्दी सेक्स कहानीयां


Nude Lady's Hot Photo, Nude Boobs And Open Pussy

Sexy Actress, Model (Bollywood, Hollywood)