Thursday, October 9, 2008

रघुवीर होते हैं...!

जगत् को जीतने वाले
जगत् के वीर होते हैं
मगर मन जीतने वाले
जगत् में धीर होते हैं
असत पर सत्य की जो
जीत का संधान करते हैं
रहें वनवास चाहे
मगर रघुवीर होते हैं
=============

12 comments:

Anil Pusadkar said...

दशहरे की शुभकामनाएं॥

राज भाटिय़ा said...

हमारी तरफ़ से भी दशहरे की शुभकामनाएं॥

शोभा said...

दशहरे की शुभकामनाएं॥

Udan Tashtari said...

विजय दशमी पर्व की बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाऐं.

रंजना [रंजू भाटिया] said...

दशहरे की शुभकामनाएं

Hari Joshi said...

भावपूर्ण कविता। विजयदशमी की शुभकामनाएं।

Vivek Gupta said...

विजय दशमी पर्व की बहुत बहुत शुभ कामनाऍ

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

आपको विजया दशमी की बधाई एवँ शुभकामना, परिवार सह:
- लावण्या

संजीव तिवारी said...

विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनांयें

श्रीकांत पाराशर said...

Achhi panktiyan. Vijay dashmi ki subh kamnayen sweekar karen.

dr. ashok priyaranjan said...

िवजयदशमी पवॆ की शुभकामनाएं ।
अच्छा िलखा है आपने

दशहरा पर मैने अपने ब्लाग पर एक िचंतनपरक आलेख िलखा है । उसके बारे में आपकी राय मेरे िलए महत्वपूणॆ होगी ।

http://www.ashokvichar.blogspot.com

मीत said...

बहुत खूब डॉ साहब. दशहरे के शुभकामनाएं.