Tuesday, November 18, 2008

जीवन विधुत धारा है...!

सुख-दुःख के दो तार जुड़े हैं
जीवन विद्युत-धारा है
एक तार से बोलो कैसे
हो सकता उजियारा है !
सागर में भी भाटा आता
और कभी आता है ज्वार
उत्थान-पतन के बीच यहाँ
पाता हर मनुज सहारा है !
==================

5 comments:

Mired Mirage said...

वाह ! बहुत सुन्दर व सटीक लिखा है ।
घुघूती बासूती

अल्पना वर्मा said...

bahut sahi likha hai.
sundar rachan.

yahi hai Jeevan!

विनय said...

सार्थक!

mehek said...

bahut sundar

नीरज गोस्वामी said...

जीवन विद्युत-धारा है
एक तार से बोलो कैसे
हो सकता उजियारा है !
अद्भुत भाव....जय हो जैन साहेब आपकी....क्या लेखन है...वाह...
नीरज