Friday, December 12, 2008

बीत न जाए पल हाथों का...!

स्मृति में या आशाओं में
बीत न जाए पल हाथों का,
यह होता तो वह हो जाता
न हो शिकायत इन बातों का.
हर दिन उतना ही उजला है
जितना आँखों में प्रकाश है,
फ़िर क्यों पल-पल का रोना है
बीत गई काली रातों का ?
=====================

7 comments:

परमजीत बाली said...

bahut badhiyaa !sundar rachanaa hai.

mehek said...

sahi biti baaton ka kya rona,bahut khub

विवेक सिंह said...

सही कहा आपने .

अजित वडनेरकर said...

सही कहा...
जिंदगी दो दिन की है
दो दिन में हम क्या क्या करें...

कम से कम वक्त की कमी का रोना तो न रोया जाए,
काम में जुटा जाए....
शुक्रिया डाक्टसाब

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

बहुत ही प्रेरणादायी।

19Himanshu's Home said...

wah wah :)

Hindi Choti said...


Hindi sexy Kahaniya - हिन्दी सेक्सी कहानीयां

Chudai Kahaniya - चुदाई कहानियां

Hindi hot kahaniya - हिन्दी गरम कहानियां

Mast Kahaniya - मस्त कहानियाँ

Hindi Sex story - हिन्दी सेक्स कहानीयां


Nude Lady's Hot Photo, Nude Boobs And Open Pussy

Sexy Actress, Model (Bollywood, Hollywood)