Tuesday, February 3, 2009

तब तक सजग मुझे रहना है...!


जितना चल सकता हूँ मैं

उतने क़दमों तक हक मेरा है

जितना जल सकता हूँ बस

उतनी किरणों तक ही डेरा है

जब तक मात न नींदों की हो

तब तक सजग मुझे रहना है

रातों से क्यों गिला मुझे हो

कब सुबहों ने मुँह फेरा है ?
====================

7 comments:

Kaushal said...

आपने अच्छा लिखा है। कभी मेरे ब्लाग को भी पढ़ने की गुजारिश है। आप जैसे विद्वानों की टिप्पणी भी अपेक्षित होगी।

विनय said...

आप सादर आमंत्रित हैं, आनन्द बक्षी की गीत जीवनी का दूसरा भाग पढ़ें और अपनी राय दें!
दूसरा भाग | पहला भाग

मीत said...

सही है !!

ऎसी भी कोई रात है जिसकी सहर न हो ?

"अर्श" said...

जैन साहब नमस्कार,
बहोत ही बढ़िया कविता लिखी है आपने बहोत ही खुबसूरत भाव लिए है प्रोत्साहित करती हुई... ढेरो बधाई कुबूल करें ....
अपनी नई पे आपकी राय जानना चाहूँगा ....

आपका
अर्श

Dr. Amar Jyoti said...

बहुत ख़ूब!'वो सुबह कभी तो आयेगी'

रंजना said...

Waah !

Aapki aasha aur urja se bhari rachnayen sachmuch rakt me navjeevan ka sanchaar kar deti hai..

Bahut bhut sundar...sadhuwaad.

Hindi Choti said...


Hindi sexy Kahaniya - हिन्दी सेक्सी कहानीयां

Chudai Kahaniya - चुदाई कहानियां

Hindi hot kahaniya - हिन्दी गरम कहानियां

Mast Kahaniya - मस्त कहानियाँ

Hindi Sex story - हिन्दी सेक्स कहानीयां


Nude Lady's Hot Photo, Nude Boobs And Open Pussy

Sexy Actress, Model (Bollywood, Hollywood)