Sunday, February 15, 2009

सुनी कहानी जैसी हो....!


बुंदेले हरबोलों से तुम

सुनी कहानी जैसी हो

वीरोचित जीवन-गरिमा की

दिव्य निशानी जैसी हो

सत्याग्रह की प्रथम नेत्री

कोटि-कोटि हो तुम्हें नमन

मातृभूमि पर लुटने वाली

एक रवानी जैसी हो ....!

===========================

सेनानी कवयित्री सुभद्राकुमारी चौहान की

पुण्य तिथि १५ फरवरी पर सश्रद्ध


8 comments:

Amit said...

bahut sundar kavita...

महेन्द्र मिश्र said...

बहुत ही बढ़िया आभार .

Dr. Amar Jyoti said...

मेरा भी नमन।

SWAPN said...

mera bhi naman

राज भाटिय़ा said...

सेनानी कवयित्री सुभद्राकुमारी चौहान जी की रचनाये तो हम बचपन से ही पढते आये है, ओर आज तक मुंह जुबानी याद है,मै नमन करता हुं इन्हे
आप का बहुत धन्यवाद

नीरज गोस्वामी said...

खूब लड़ी मर्दानी वो तो झाँसी वाली रानी थी.

इस ओज पूर्ण कविता की रचयेता को नमन....आपने बहुत भावपूर्ण श्रधांजली दी है...

नीरज

सतीश सक्सेना said...

वाह ! डॉ साहब, आनंद आगया !

Harkirat Haqeer said...

सत्याग्रह की प्रथम नेत्री

कोटि-कोटि हो तुम्हें नमन

मातृभूमि पर लुटने वाली

एक रवानी जैसी हो ....!

सुभद्राकुमारी चौहान जी को मेरा नमन....!!