Wednesday, June 23, 2010

इच्छा उम्र से ज्यादा जीने की...!

घास को देखो
बार-बार उग आते हैं
नाखून बार-बार बढ़ जाते हैं
वैसे ही बाल भी
कितनी जिद है इनमें
उम्र से ज्यादा जीने की
इच्छा
बने रहने की....!
==========================
भास्कर चौधरी की रचना साभार.

3 comments:

रंजना said...

Sachmuch....

'उदय' said...

... bahut sundar !!!

Hindi Choti said...
This comment has been removed by a blog administrator.