Wednesday, December 17, 2008

छोटी-छोटी बात लिखूंगा...!

छोटी कविता,छोटे किस्से,

छोटी-छोटी बात लिखूंगा।

दिन होगा तो दिन ही लिखूंगा,

ये न समझना रात लिखूंगा।।

लेकिन जब अनगिन लोगों ने,

कभी सुबह तक न देखी हो।

स्याह-स्याह उनकी रातों को,

कभी न दिन बेबात लिखूंगा।।

====================

10 comments:

A Khudori Soleh said...

salam from khudori.

sanjay patel said...

क्या बात कही आपने...
मैं तो सिर्फ़ इतना कहूँगा.

Anil Pusadkar said...

आप गर अच्छा लिखते रहेंगे,
तारीफ़ करते-करते मै न थकूंगा।

Udan Tashtari said...

बहुत गहरी अभिव्यक्ति, बधाई.

Aaditya said...

जरुर लिखिये!!

मीत said...

क्या बात है भाई.. बात छोटी तो नहीं .....

रंजना said...

सत्य को सुन्दरता से शब्दों में बाँध रख दिया है आपने....बहुत सुंदर रचना.

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बहुत सुंदर

विष्णु बैरागी said...

बहुत ही सुन्‍दर पंक्तियां । साधुवाद ।

Dr. Chandra Kumar Jain said...

आप सब का आभार
अंतर्मन से.....
==========
डॉ.चन्द्रकुमार जैन