Monday, November 24, 2008

जीवन क्या है...!

जीवन क्या है एक भयंकर

अति बीहड़ जंगल है !

तेज रोशनी वालों को

इसमें दिखता मंगल है !!

और शेष तो इसमें आकर

भटक-भटक जाते हैं !

अल्प जीतते,अधिक हारते

यह तो वह दंगल है !!

==================

5 comments:

परमजीत बाली said...

जीवन को देखने का सब का अपना अपना नजरिया है।आप ने अपने मनोभावॊ को बहुत सुन्दरता से प्रस्तुत किया है।बधाई।

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर लिखा आप् ने.
धन्यवाद

नीरज गोस्वामी said...

जीवन की इस परिभाषा ने गदगद के दिया...आप की विलक्षण लेखनी को प्रणाम
नीरज

Anil Pusadkar said...

ज़िँदगी को देखने का ये नज़रिया पसँद आया.सुँदर भाव.

Hindi Choti said...


Hindi sexy Kahaniya - हिन्दी सेक्सी कहानीयां

Chudai Kahaniya - चुदाई कहानियां

Hindi hot kahaniya - हिन्दी गरम कहानियां

Mast Kahaniya - मस्त कहानियाँ

Hindi Sex story - हिन्दी सेक्स कहानीयां


Nude Lady's Hot Photo, Nude Boobs And Open Pussy

Sexy Actress, Model (Bollywood, Hollywood)