Friday, January 23, 2009

दो रातों के बीच सुबह है...!


दो रातों के बीच सुबह है

दोष न उसको देना साथी

दो सुबहों के बीच रात भी

एक ही जीवन में है आती !

आगत का स्वागत करना है

विगत क्लेश की करें विदाई,

शाम बिखरकर, सुबह जो खिलीं

कलियाँ कुछ कहतीं मुस्कातीं !

====================

3 comments:

राज भाटिय़ा said...

बहुत खुब, सुख दुख सभी लगे ही रहते है रात ओर सुबह की तरह.
धन्यवाद

Harkirat Haqeer said...

दो रातों के बीच सुबह है

दोष न उसको देना साथी

दो सुबहों के बीच रात भी

एक ही जीवन में है आती !

bhot khoob kaha Chandra kumar ji....

श्रद्धा जैन said...

ji sach kahte hain sukh dukh to lage hi hai
raat aur din ka aana jana hi jivan hai